Lal Bahadur Shastri Biography in Hindi

Contents hide

लाल बहादुर शास्त्री की जीवनी

आज की इस पोस्ट में हम आपको बताने जा रहे है लाल बाहदुर शास्त्री जी के बारे में, Lal Bahadur Shastri Biography in Hindi, ⭐⭐⭐⭐⭐ लाल बहादुर शास्त्री की जीवनी, जीवन, इतिहास, मृत्यु और उपलब्धियां, आदि

Lal-Bahadur-Shastri-Biography-In-Hindi
Lal-Bahadur-Shastri-Biography-In-Hindi

लाल बहादुर शास्त्री का जीवन परिचय

लाल बहादुर शास्त्री का वास्तविक नाम लाल बहादुर शास्त्री
लाल बहादुर शास्त्री का उपनाम शांति दूत, शास्त्री, नन्हे, आदि
लाल बहादुर शास्त्री का व्यवसाय शिक्षक, समाजिक कार्यकर्ता, राजनीतिज्ञ,आदि

लाल बहादुर शास्त्री की शारीरिक संरचना

लाल बहादुर शास्त्री की लम्बाई 154 सेंटीमीटर
1.54 मीटर 
5’ 1” फ़ीट इंच 
लाल बहादुर शास्त्री की आँखों का रंग काला रंग
लाल बहादुर शास्त्रीके बालों का रंग धूसर रंग

लाल बहादुर शास्त्री की राजनीति

लाल बहादुर शास्त्री की लाल बहादुर शास्त्रीकी राजनीतिक पार्टी भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ( कांग्रेस पार्टी )
लाल बहादुर शास्त्री जी की राजनीतिक यात्रा सन 1928 में : महात्मा गांधी के आह्वान पर भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस में शामिल हुए।
सन 1929 में : इलाहाबाद जिला कांग्रेस कमेटी के सचिव बने।
सन 1935-37 में : यूपी प्रांतीय कांग्रेस कमेटी के महासचिव के रूप में चुने गए।
सन 1937 में : यूपी विधानसभा के सद्स्य के रूप में चुने गए और यूपी संसदीय बोर्ड के आयोजन सचिव बने।
सन 1947 में : उत्तर प्रदेश विधानसभा के संसदीय सचिव बने और 15 अगस्त को तत्कालीन मुख्यमंत्री गोविंद बल्लभ पंत ने उन्हें पुलिस और परिवहन मंत्री नियुक्त किया।
सन 1951 में : तत्कालीन प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू की अगुवाई में उन्हें अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के महासचिव के रूप में नियुक्त किया गया।
सन 1952 में : Soraon उत्तर सह-फुलपुर पश्चिम सीट से एक विधायक बने और 13 मई को, भारत गणराज्य के पहले रेल मंत्री बने।
सन 1957 में : पंडित जवाहर लाल नेहरू ने फिर से लाल बहादुर शास्त्री को मंत्रिमंडल में परिवहन और संचार मंत्री के रूप में नियुक्त किया।
सन 1958 में : वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय के प्रभारी के रूप में नियुक्त किया गया।
सन 1961 में : पंडित जीबी पंत की मृत्यु के बाद वह गृह मंत्री बने।
सन 1964 में : 9 जून को, वह भारत के दूसरे प्रधानमंत्री बने और वर्ष 1966 तक कार्य किया।
लाल बहादुर शास्त्री जी के प्रमुख कथन • लोगों को सच्‍चा लोकतंत्र और स्‍वराज कभी भी हिंसा और असत्‍य से प्राप्‍त नहीं हो सकता।
• कानून का सम्‍मान किया जाना चाहिए, ताकि हमारे लोकतंत्र की बुनियादी संरचना बरकरार रहे।
• यदि कोई भी व्‍यक्ति ऐसा रह गया, जिसे किसी रूप में अछूत कहा जाता है, तो भारत को अपना सर शर्म से झुकाना पड़ेगा।
• हमारी ताकत और स्थिरता के लिए हमारे सामने ज़रूरी काम है, लोगों में एकता और एकजुटता स्‍थापित करना।
• “जय जवान, जय किसान”
लाल बहादुर शास्त्री जी के नाम पर स्थान / संस्थाएं • लाल बहादुर शास्त्री नेशनल एकेडमी ऑफ एडमिनिस्ट्रेशन (मसूरी, उत्तराखंड में )।
• शास्त्री इंडो-कनाडाई संस्थान का नाम शास्त्री जी के नाम पर रखा गया था, क्योंकि भारत और कनाडा के बीच विद्वानों की गतिविधियों के विकास में उनकी प्रमुख भूमिका थी।
• लाल बहादुर शास्त्री जी की 45 वीं पुण्यतिथि पर, वर्ष 2011 में, उत्तर प्रदेश सरकार ने वाराणसी के रामनगर में शास्त्री के पूर्वजों के घर का पुनर्निर्माण करने की घोषणा की और इसे एक जीवनी संग्रहालय में बदलने की घोषणा की।
• वाराणसी का अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा
• उज्बेकिस्तान के ताशकंद में, उनके नाम से एक स्मारक स्थापित किया गया, जिसे भारतीय संस्कृति का केंद्र माना जाता है और उसके बाद उनके नाम पर एक सड़क का नाम रखा गया।
• उत्तरी कर्नाटक में स्थित, कृष्णा नदी पर बनाया गया अल्माट्टी बांध का नाम बदलकर लाल बहादुर शास्त्री सागर रखा गया। जिसके नींव का पत्थर उनके द्वारा ही रखा गया था।
• RBI द्वारा उनके जन्म दिवस की वर्षगांठ पर ₹5 का सिक्का जारी किया गया।
• वर्ष 1991 से, हर वर्ष अखिल भारतीय लाल बहादुर शास्त्री हॉकी टूर्नामेंट को आयोजित किया जा रहा है।
• शास्त्री जी की प्रतिमाएं विभिन्न शहरों में स्थापित की गई हैं जैसे कि – मुंबई, बैंगलोर (विद्या सऊधा), नई दिल्ली (सीजीओ परिसर), अल्माट्टी बांध स्थल, रामनगर-यूपी, हिसार, विजागापतिनम, नागार्जुन बांध स्थल, वारंगल, इत्यादि।
• शास्त्री जी की अर्ध -प्रतिमाएं (busts) विभिन्न शहरों में स्थापित की गई हैं जैसे – तिरुवनंतपुरम, पुणे, वाराणसी (हवाई अड्डे), अहमदाबाद (लेकसाइड), कुरुक्षेत्र, शिमला, कासरगोड, इंदौर, जलंधर, महोदय, उरण, इत्यादि।
• हिमाचल प्रदेश मंडी में लाल बहादुर शास्त्री मेडिकल कॉलेज।
• नई दिल्ली, चेन्नई, लखनऊ, इत्यादि में शास्त्री भवन है ।

लाल बहादुर शास्त्री का व्यक्तिगत जीवन

लाल बहादुर शास्त्री की जन्मतिथि – लाल बहादुर शास्त्री जयंती 2 अक्टूबर 1904
लाल बहादुर शास्त्री का जन्मस्थान मुगलसराय, वाराणसी, उत्तर प्रदेश में
लाल बहादुर शास्त्रीकी मृत्यु तिथि 11 जनवरी 1966
लाल बहादुर शास्त्रीका मृत्यु स्थल ताशकंद ( वर्तमान में उजबेकिस्तान में है )
लाल बहादुर शास्त्री की आयु 61 वर्ष (मृत्यु के समय की आयु )
लाल बहादुर शास्त्री की मृत्यु का कारण ज्ञात नहीं
एक अन्य स्रोत के अनुसार: उनकी मृत्यु के पीछे षड्यंत्र रचा गया था।
विभिन्न स्रोतों के अनुसार: हृदयाघात से मृत्यु ( दिल का दौरा पड़ने से मृत्यु हुई )
लाल बहादुर शास्त्री की समाधि स्थल विजय घाट, नई दिल्ली में
लाल बहादुर शास्त्री की राशि तुला राशि
लाल बहादुर शास्त्री की राष्ट्रीयता भारतीय नागरिक ( राष्ट्रीयता )
लाल बहादुर शास्त्री का गृहनगर मुगलसराय, वाराणसी, उत्तर प्रदेश में
लाल बहादुर शास्त्री का स्कूल/विद्यालय श्री हरीश चंद्र इंटरमीडिएट कॉलेज से
लाल बहादुर शास्त्री का महाविद्यालय/विश्वविद्यालय महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ, वाराणसी से
शैक्षिक योग्यता प्रथम श्रेणी से कला में स्नातक
लाल बहादुर शास्त्री का परिवार पिता का नाम – शारदा प्रसाद श्रीवास्तव (एक स्कूल शिक्षक)

माता का नाम – रामदुलारी देवी (गृहणी)

भाई – कोई नहीं
बहन का नाम – कैलाशी देवी, सुंदरी देवी

लाल बहादुर शास्त्री का धर्म हिन्दू धर्म
लाल बहादुर शास्त्री का जाति कायस्थ जाती ( वो अपने नाम के पीछे जाती लगाना उचित नहीं समझते थे )
लाल बहादुर शास्त्री का पता 10 जनपथ, नई दिल्ली में
लाल बहादुर शास्त्री का पुरस्कार/सम्मान उन्हें भारत सरकार द्वारा मरणोपरांत भारत रत्न से सम्मानित किया गया। वर्ष 1966 में,
लाल बहादुर शास्त्री के शौक/अभिरुचि पुस्तकें पढ़ना, आदि

लाल बहादुर शास्त्री का  प्रेम संबन्ध एवं अन्य जानकारियां

लाल बहादुर शास्त्री की वैवाहिक स्थिति विवाहित (मृत्यु के समय)
लाल बहादुर शास्त्री की विवाह तिथि 16 मई 1928
लाल बहादुर शास्त्री की पत्नी ललिता देवी जी से ( सन 1928 – 1966)
लाल बहादुर शास्त्री के बच्चे
लाल बहादुर शास्त्री के बेटे का नाम व काम : हरि कृष्ण शास्त्री, अनिल शास्त्री (राजनीतिज्ञ: भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस), सुनील शास्त्री (राजनीतिज्ञ: बीजेपी), अशोक शास्त्री
लाल बहादुर शास्त्री की बेटी का नाम व काम : कुसुम शास्त्री, सुमन शास्त्री

लाल बहादुर शास्त्री : कुछ अल्पज्ञात तथ्य व रोचक जानकारियाँ

Lal-Bahadur-Shastri-Biography-In-Hindi
Lal-Bahadur-Shastri-Biography-In-Hindi
  • लाल बहादुर शास्त्री धूम्रपान करते थे? : ज्ञात नहीं है
  • क्या लाल बहादुर शास्त्री मदिरापान करते थे : ज्ञात नहीं है
  • वह अपनी जन्मतिथि महात्मा गांधी के साथ साझा करते हैं, जिन्हें भारत के “राष्ट्रपिता” के रूप में जाना जाता है।
  • जब वह दो साल का था तब उसके पिता की बुबोनिक प्लेग से मृत्यु हो गई थी। उनकी मां ने उनका और उनकी दो बहनों का पालन-पोषण उनके नाना हजारी लाल के घर पर किया।
  • उनमें बचपन से ही नैतिकता, ईमानदारी, सरलता और शुद्ध नैतिकता का वास था।
  • उन्होंने अपना उपनाम “श्रीवास्तव” छोड़ने का विकल्प चुना क्योंकि वह उस समय जाति संरचना के खिलाफ थे।
  • 1925 में वाराणसी के काशी विद्यापीठ से स्नातक होने के बाद, उन्हें “शास्त्री” की उपाधि दी गई, जिसका अर्थ है “विद्वान व्यक्ति।”
Lal-Bahadur-Shastri-Biography-In-Hindi
Lal-Bahadur-Shastri-Biography-In-Hindi
  • स्वामी विवेकानंद, गांधीजी, एनी बेसेंट और अन्य लोगों ने युवा शास्त्री को अपने काम और देशभक्ति से प्रेरित किया।
  • युवा कार्यकर्ताओं को शिक्षित करने के लिए, जे.बी. कृपलानी और उनके एक मित्र, वी.एन. शर्मा ने “राष्ट्रवादी शिक्षा” पर केंद्रित एक अनौपचारिक स्कूल की स्थापना की। शास्त्री उनकी संस्था पर मोहित हो गए और उन्होंने भी उनके साथ जुड़ने का फैसला किया।
  • सत्रह वर्ष की आयु में, वह गैर-निगम क्षण में अपनी सक्रिय भागीदारी के लिए पहली बार जेल गए।
  • उन्होंने 1928 में गणेश प्रसाद की सबसे छोटी बेटी ललिता देवी से शादी की। उन्होंने दहेज लेने से इनकार कर दिया जो उनके ससुर ने उन्हें दिया था क्योंकि वे दहेज प्रथा के विरोधी थे। उसने अपने ससुर द्वारा बार-बार दबाए जाने के बाद केवल पांच गज खादी (एक प्रकार का कपास जो आमतौर पर हाथ से काता है) को दहेज के रूप में स्वीकार किया।
  • उन दोनों के कुल छह बच्चे थे।
  • वे सर्वेंट्स ऑफ द पीपल्स सोसाइटी (लाला लाजपत राय द्वारा स्थापित) के आजीवन सदस्य भी बने और गांधी के नेतृत्व में मुजफ्फरपुर में हरिजनों के विकास के लिए काम किया। इसके बाद वे सोसायटी के अध्यक्ष बने।
Lal-Bahadur-Shastri-Biography-In-Hindi
Lal-Bahadur-Shastri-Biography-In-Hindi
  • 1928 में वे कांग्रेस के सदस्य बने और 1930 में साल्ट मार्च का समर्थन करने के लिए उन्हें ढाई साल की कैद हुई। स्वतंत्रता संग्राम को व्यक्तिगत सत्याग्रह समर्थन प्रदान करने के लिए उन्हें 1940 में एक वर्ष के लिए जेल में डाल दिया गया था।
  • गांधी ने 8 अगस्त 1942 को भारत छोड़ो आंदोलन पर एक भाषण दिया, जिसमें ब्रिटिश सरकार को भारत छोड़ने की चुनौती दी गई थी। शास्त्री, जिन्हें हाल ही में जेल से रिहा किया गया था, ने नेहरूजी के आवास से स्वतंत्रता कार्यकर्ताओं को आदेश दिए। 1946 तक उन्हें एक बार फिर पकड़ लिया गया और जेल में डाल दिया गया।
  • शास्त्री ने कुल 9 साल जेल में बिताए।
  • भारत की आजादी के तुरंत बाद शास्त्री को उनके गृह राज्य उत्तर प्रदेश में संसदीय सचिव के रूप में चुना गया था।
  • वह महिलाओं को कंडक्टर के रूप में काम करने की अनुमति देने वाले उत्तर प्रदेश के पहले पुलिस और परिवहन मंत्री थे। वह लाठियों के बजाय भीड़ को प्रबंधित करने के लिए वाटर कैनन/जेट का उपयोग करने वाले पहले व्यक्ति भी थे।
Lal-Bahadur-Shastri-Biography-In-Hindi
Lal-Bahadur-Shastri-Biography-In-Hindi
  • 1951 में, जब जवाहरलाल नेहरू प्रधान मंत्री थे, उन्हें अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी का महासचिव नियुक्त किया गया था।
  • उन्हें महासचिव के रूप में चुनाव संबंधी सभी दायित्व दिए गए थे।
  • वह 1952, 1957 और 1962 के भारतीय आम चुनावों में कांग्रेस पार्टी की जीत में एक प्रमुख व्यक्ति थे।
  • शास्त्री 13 मई, 1952 को रेल मंत्री के रूप में भारत गणराज्य के पहले मंत्रिमंडल के लिए चुने गए।
  • 27 मई, 1964 को जवाहरलाल नेहरू की मृत्यु के बाद, शास्त्री को 9 जून, 1964 को प्रधान मंत्री नियुक्त किया गया था। वह भारत के दूसरे प्रधान मंत्री थे।

  • 11 जून, 1964 को पद की शपथ लेते हुए उन्होंने कहा, “हर राष्ट्र के जीवन में एक समय ऐसा आता है जब वह इतिहास के चौराहे पर खड़ा होता है और उसे किस दिशा में जाना है यह चुनना चाहिए।” कठिनाई या अनिच्छा की कोई आवश्यकता नहीं है, और हमें दाएं या बाएं देखने की आवश्यकता नहीं है। हमारा मार्ग सीधा और अचूक है: घर में स्वतंत्रता और समृद्धि के साथ एक धर्मनिरपेक्ष मिश्रित-अर्थव्यवस्था लोकतंत्र की स्थापना, साथ ही राष्ट्रों के चुने हुए समूह के साथ विश्व शांति और सद्भावना बनाए रखना।
  • 1965 में, जब भारत-पाक संघर्ष अपने चरम पर था, उन्होंने भारत को जीत के लिए निर्देशित किया।
  • युद्ध के दौरान, उन्होंने देश की भोजन की कमी का जिक्र करते हुए “जय जवान, जय किसान” का नारा गढ़ा।
  • वह मरणोपरांत भारत रत्न से सम्मानित होने वाले पहले व्यक्ति थे।
  • उनके महान नेतृत्व की दुनिया भर में प्रशंसा और प्रशंसा हुई। वह सभी भारतीयों के लिए प्रोत्साहन और प्रेरणा का एक बड़ा स्रोत थे क्योंकि उन्होंने अपना जीवन सरल और ईमानदारी से जिया।
  • ताशकंद घोषणा को स्वीकार करने के एक दिन बाद ताशकंद में शास्त्री की मृत्यु हो गई, माना जाता है कि एक घातक दिल का दौरा पड़ने से, लेकिन कुछ को कवर-अप का संदेह है। वह भारत के पहले विदेश में जन्मे प्रधानमंत्री थे।

  • उन्हें एक राष्ट्रीय नायक के रूप में सम्मानित किया गया था, और उनके सम्मान में “विजय घाट” नामक एक स्मारक बनाया गया था।

Lal Bahadur Shastri Biography in Hindi

लाल बहादुर शास्त्री की जीवनी

देश के प्रति

Lal-Bahadur-Shastri-Biography-In-Hindi
Lal-Bahadur-Shastri-Biography-In-Hindi

देश के प्रति निष्ठा सभी निष्ठा से पहले आती है और यह पूर्ण निष्ठा है क्योंकि कोई भी यहां आंकलन नहीं कर सकता कि बदले में उसे क्या मिलता है| दोस्तों हिंदी दर्पण में आज हम बात करेंगे भारत के दूसरे प्रधानमंत्री स्वर्गीय श्री लाल बहादुर शास्त्री जी के बारे में जिन्हें अपनी इमानदारी काबिलियत और देश प्रेम के कारण आज भी याद किया जाता है दोस्तों लाल बहादुर शास्त्री का जन्म 2nd अक्टूबर 1904 को उत्तर प्रदेश के बनारस जिले के मुगलसराय में हुआ था|

बनारस

Lal-Bahadur-Shastri-Biography-In-Hindi
Lal-Bahadur-Shastri-Biography-In-Hindi

उनके पिता शारदा प्रसाद एक सरकारी स्कूल में अध्यापक थे मगर जब वे सिर्फ 2 साल के थे तभी उनके पिता की मृत्यु हो गई जिसके बाद उनकी मां उन्हें उनके नाना के यहां लेके गई मिर्जापुर से शुरुआती शिक्षा पूरी करने के बाद वह आगे की पढ़ाई के लिए बनारस चले गए वह जातिवाद के बिलकुल खिलाफ थे इसीलिए उन्होंने कभी भी अपनी जाति, अपने नाम में नहीं लिखी बनारस के काशी विद्यापीठ से ग्रेजुएशन करने के बाद उन्हें शास्त्री की उपाधि दी गई उन्होंने 1928 में ललिता देवी जी से शादी की और दहेज लेने से भी साफ मना कर दिया क्योंकि वह दहेज के बिलकुल खिलाफ है शास्त्री जी के परिवार का आजादी के आंदोलन से कोई लेना-देना नहीं था मगर उनके टीचर थे निस कामेश्वर प्रसाद मिश्रा जो बड़े देशभक्त थे उन्होंने आर्थिक रूप से शास्त्री जी की बहुत मदद की थी|

देशभक्ति की विचारधारा

Lal-Bahadur-Shastri-Biography-In-Hindi
Lal-Bahadur-Shastri-Biography-In-Hindi

शास्त्री जी उनकी देशभक्ति की विचारधारा से बहुत प्रभावित हुए और फिर 1915 में महात्मा गांधी द्वारा दिए गए भाषण ने उनकी जिंदगी बदल दी 1921 में अपने हाई स्कूल एग्जाम के कुछ महीने पहले नॉन कोऑपरेशन मूवमेंट यानी असहयोग आंदोलन के समय गांधी जी की बातों से प्रभावित होकर उन्होंने भी हजारों बच्चों की तरह अपना स्कूल छोड़ दिया और आंदोलन में हिस्सा लेने लगे इसके कारण ने गिरफ्तार कर लिया गया था मगर नाबालिक होने के कारण उन्हें छोड़ दिया गया|

इलाहाबाद कांग्रेस कमेटी

 

1930 में शास्त्री जी कांग्रेस की एक इकाई के सेक्रेटरी बनाए गए और बाद में इलाहाबाद कांग्रेस कमेटी के प्रेसिडेंट बने उन्होंने गांधीजी के नमक सत्याग्रह में भी अहम भूमिका निभाई वह घर घर जाते थे और उनसे लगाना टैक्स ना देने के लिए कहते थे 1942 में क्विट इंडिया मूवमेंट यानी भारत छोड़ो आंदोलन के समय उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया था इस दौरान को कई समाज सुधारक और पश्चिमी फिलोसोफर के बारे में भी पढ़ें|

रेल एक्सीडेंट

Lal-Bahadur-Shastri-Biography-In-Hindi
Lal-Bahadur-Shastri-Biography-In-Hindi

आजादी के बाद उन्हें उत्तर प्रदेश का पुलिस मंत्रालय सौंपा गया उन्होंने बहुत अच्छा काम किया जिससे प्रभावित होकर नेहरु जी ने उन्हें भारत सरकार का रेल मंत्री बना दिया मगर 1950 में तमिलनाडु में एक रेल एक्सीडेंट हुआ जिसमें लगभग डेढ़ सौ लोग मारे गए इस हादसे का उनके ऊपर इतना बुरा असर पड़ा कि उन्हें लगा कि यह उन्हीं की गलती है और वह इस पद को संभालने के लायक नहीं है इसलिए उन्होंने रेल मंत्री के पद से इस्तीफा दे दिया|

₹12000 की कार

Lal-Bahadur-Shastri-Biography-In-Hindi
Lal-Bahadur-Shastri-Biography-In-Hindi

1957 से वे वापस यातायात और संचार मंत्री बनाए गए उन्होंने कॉमर्स एंड इंडस्ट्री मिनिस्टर यानि व्यापार और उद्योग मंत्री बना दिया गया 1961 में उन्हें गृह मंत्री बनाया गया नेहरू जी की मृत्यु के बाद 9 जून 1964 को शास्त्री जी को नया प्रधानमंत्री चुना गया हालांकि उस समय और भी कई बड़े कांग्रेसी नेता थे प्रधानमंत्री बनने के बाद भी वह बहुत साधारण स्वभाव के थे उन्होंने कभी भी अपने पद का इस्तेमाल अपनी निजी जरूरतों के लिए नहीं किया अपने परिवार के बहुत दबाव देने पर उन्होंने कार खरीदी थी ₹12000 की कार के लिए पैसे पूरे नहीं पढ़ रहे थे उन्होंने ₹7000 जमा किए और बाकी पैसों के लिए बैंक से लोन लिया शास्त्री जी ने खाने की कमी बेरोजगारी और गरीबी को दूर करने के लिए कई कदम उठाए भारत में भोजन की कमी दूर करने के लिए ग्रीन रिवॉल्यूशन यानी हरित क्रांति और दूध और दूध से बनने वाले सामान की कमी पूरी करने के लिए श्वेत क्रांति शास्त्री के समय में ही आई थी|

P-40 समझौते

Lal-Bahadur-Shastri-Biography-In-Hindi
Lal-Bahadur-Shastri-Biography-In-Hindi

1965 में जब पाकिस्तान ने भारत से युद्ध छेड़ दिया तब उन्होंने सेना को जवाब देने के लिए आजाद कर दिया था और यह साफ-साफ कह दिया था कि ताकत का जवाब ताकत से ही दिया जाएगा इसी समय उन्होंने देश के किसानों और सैनिकों का हौसला बढ़ाने के लिए जय जवान जय किसान का नारा दिया था युद्ध के समय की ही बात है कि अमेरिका ने भारत के ऊपर दबाव बनाना शुरू कर दिया कि भारत युद्ध बंद कर दें वरना P-40 समझौते के तहत भारत को मिलने वाला गेहू अमेरिका देना बंद कर देगा | उसी समय शास्त्री जी ने अपने घर में शाम का खाना बनाने से मना कर दिया कारण पूछने पर उन्होंने कहा कि मैं देखना चाहता हूं कि मेरा परिवार एक वक्त भोजन किए बिना रह सकता है या नहीं अगर रह सकता है तो मैं कल ही देशवासियों से एक वक्त का खाना छोड़ने का आग्रह करूंगा हम भूखे रह लेंगे मगर अमेरिका की धमकियों के आगे नहीं झुकेंगे|

दिल की बीमारी से मृत्यु या एक सोची समझी साजिश

Lal-Bahadur-Shastri-Biography-In-Hindi
Lal-Bahadur-Shastri-Biography-In-Hindi

शास्त्री जी को दिल की बीमारी थी और उन्हें पहले भी दो बार दिल का दौरा पड़ चुका था तीसरी बार में कार्डियक बीमारी  के कारण 5 जनवरी 1960 को उनकी मृत्यु हो गई हालांकि उनकी मृत्यु पर आज भी कई तरह के प्रश्न लगते हैं ऐसा माना जाता है कि शायद उनकी मृत्यु किसी बीमारी से नहीं बल्कि एक सोची समझी साजिश से हुई थी मगर अभी तक इसका कोई भी खुले रुप से हमारे सामने नहीं है अपनी मृत्यु के बाद भारत रत्न से सम्मानित किए जाने वाले शास्त्री जी पहले भारतीय हैं यह शास्त्री जी जैसे महान देशभक्तों का बिल और ईमानदार नेताओं की न सिर्फ हमे आजादी मिली|

सपनों का भारत

Lal-Bahadur-Shastri-Biography-In-Hindi
Lal-Bahadur-Shastri-Biography-In-Hindi

बल्कि आजादी के कुछ दशक के बाद ही हमारा देश दुनिया के सामने पहचान बना रहा है मगर गुजरते समय के साथ ऐसे महान लोगों की यादों पर एक धूल सी पड़ती जा रही है हमें चाहिए कि हम हमेशा इनका सम्मान करें और उनके सपनों का भारत बनाने के लिए अपनी तरफ से प्रयास करें दोस्तों अगर आपको हमारा प्रयास पसंद आया हो तो ऐसी ही और बायोग्राफी और सक्सेस स्टोरी देखने के लिए हमारी वेबसाइट को बुकमार्क कर लो |

धन्यवाद |

NEXT

Online Study Points

Tom Cruise Biography in Hindi टॉम क्रूज की जीवनी

Nawazuddin Siddiqui Biography in Hindi नवाजुद्दीन सिद्दीकी

Avatar Of Letslearnsquad
LetsLearnSquadhttps://letslearnsquad.com
I am a youtuber & Blogger @ LetsLearnsquad.com

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

FOLLOW US

0FansLike
2,988FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Related Stories