HomeMotivation & Successजिम्मेदारी लेने से क्या होता है ? Jimmedaari lene se kya hota...

जिम्मेदारी लेने से क्या होता है ? Jimmedaari lene se kya hota hai ? 

जिम्मेदारी लेने से क्या होता है?

Jimmedaari lene se kya hota hai ?

काश आपको ये पहले पता होता ?

आप इस बात को जानकर हैरान रह जाओगे कि लाइफ में बिना किसी मकसद के भटकने वाले मर्दों की तादाद महिलाओं से ज्यादा है सवाल उठता है कि ऐसा क्यों? आखिर मर्दों की सोच में वह कौन सी कमी है वह कौन सी गलती है जिसके कारण मर्द अपने ही हाथों अपनी लाइफ बर्बाद कर रहे है|

12 BOOKS FOR LIFE के ऑथर जॉर्डन पीटरसन के एक लेक्चर से हम इन सवालों के जवाब जानेंगे, उनकी बताइए बातों को मैंने 5 पॉइंट्स में डिवाइड किया है चलिए देखते हैं डॉक्टर जॉर्डन पीटरसन क्या कहना है क्या फर्क है एक मर्द और औरत की सोच में

1) There are many basic differences

1) एक औरत और एक मर्द की सोच में कई बेसिक डिफरेंस है

Jimmedaari Lene Se Kya Hota Hai
Jimmedaari Lene Se Kya Hota Hai

चाहे एकेडमिक्स में मार्क्स की बात करें या ऑफिस में टारगेट पूरा करने की जब भी एक सिस्टम के हिसाब से काम करने के बाद आती है तो मर्दों की तुलना में औरतें ज्यादा अच्छा परफॉर्म करती है एक मर्द कभी किसी सिस्टम में बंद कर रहना पसंद नहीं करता जबकि औरत आसानी से कर लेती है|  शायद इसीलिए दुनिया के बनाए हम सोशल सिस्टम में औरतें आसानी से एडजस्ट कर लेती है क्या कभी आपने सोचा है कि ऐसा क्यों? क्यों मर्दों में औरतों के मुकाबले ज्यादा रिबेलियस एटीट्यूड ( बागी वाला एटीट्यूड होता है )

डॉक्टर जॉर्डन पीटरसन इस बारे में कहते हैं की ऐसा इसलिए क्योंकि औरतों में एग्रीमेंट का पावर ज्यादा होता है औरतें मर्दों की तुलना में जल्दी राजी हो जाती है अगर हम डॉक्टर पीटरसन का बनाया एग्रीमेंट ग्राफ देखे तो ज्यादातर औरतें एग्रीमेंट की तरफ मिलेगी और ज्यादातर मर्द उसके विपरीत डिसअग्रीमेंट की तरफ मिलेंगे|

अगर आप एक लड़की को कहोगे की क्लास अटेंड करनी है और पढ़ना है तो उसके मन में कोई और थॉट नहीं आएगा वह अटेंड कर लेगी वह पढ़ेगी – वहीं एक लड़के के मन में आसानी से ये बता आ सकती है कि भला मैं क्यों अटेंड करू ये बोरिंग सा लेक्चर? मैं तो अपना फेवरेट वीडियो गेम खेलूंगा

2) Responsibility is more important than rights

2) राइट से ज्यादा रिस्पांसिबिलिटीज जरूरी है

Jimmedaari Lene Se Kya Hota Hai
Jimmedaari Lene Se Kya Hota Hai

हमारी सोसाइटी में आजकल हर जगह राइट की बात होती है अधिकारों की बात होती लेकिन रिस्पांसिबिलिटी की जिम्मेदारी की बात कोई नहीं करता चाहे पॉलीटिकल लीडर हो या मोटिवेशनल स्पीकर सब केवल हमें हमारे राइट्स याद दिलाते हैं लेकिन डॉक्टर पेटर्सन कहते हैं कि यह बहुत खतरनाक सिचुएशन है क्योंकि राइट की बातें रिबेलियस एटीट्यूड पैदा करती है जबकि रिस्पांसिबिलिटी की बाते लाइफ के उद्दैश्य के बारे में बताती है| जीवन में जिम्मेदारियां आती है|

अपने भविस्य वाले लेक्चर में जब पहली बार डॉक्टर पीटरसन ने रिस्पांसिबिलिटी की बात की तो उन्होंने देखा कि लड़कों की आंखों में चमक आ गई है जैसे उनके सामने कोई छुपा हुआ सीक्रेट आगया हो इस दौड़ भरी जिंदगी में हमें इस बात का अंदाजा ही नहीं होता कि हम किस डायरेक्शन में जा रहे हैं किसने कहा यह करना किसने कहा वह करना बस हम करते ही जाते है | अपनी लाइफ की जिम्मे दारियो को समझ ही नहीं पाते |

3) Mythological Stories are mirror of Life

3) मेथेलॉजिकल कहानियां केवल कहानियां ही नहीं बल्कि जिंदगी का आईना है

Jimmedaari Lene Se Kya Hota Hai
Jimmedaari Lene Se Kya Hota Hai

कहानियां बचपन से हम सब सुनते आ रहे हैं कभी किसी राजा की तो कभी किसी महान इंसान की लेकिन कहानियों को सुनाने वालों ने कभी हमें यह नहीं समझाया है कि एक कहानियां हमारी रियल लाइफ से कितना रिलेट करती है

याद कीजिये उन योद्धाओं की राजाओं की कहानियों को जिसमें मर्दों का एक पावरफुल पर्सनैलिटी के रूप में दिखाया जाता था क्या आपने कभी सोचा है कि कहानियों का एक महान राजा इतना पावरफुल और कॉन्फिडेंट क्यों होता था? कैसे होता था? शायद आपने कहानी के बारे में कभी सोचा ना हो वो पावरफुल और कॉन्फिडेंट इसलिए था क्योंकि उसके कंधों पर बहुत सी रिस्पांसिबिलिटीज थी और उन रिस्पांसिबिलिटीज को पूरा करना ही उसने अपनी लाइफ का मकसद मान लिया था और इन जिम्मेदारियों के एहसास ने राजाओं को अपने हर कौशल को विकसित करने पर मजबूर कर दिया ताकि वह लोगों की रक्षा कर सकें यह सिर्फ कहानियां ही नहीं है यह लाइफ के रियालिटी भी अगर आपको लाइफ में कॉन्फिडेंट सेटिस्फाइड फील करना है तो अपने सबसे बड़े रिस्पांसिबिलिटी को पेहचानो और उनको निभाओ भाई फिर देखें कि आपको अपनी लाइफ कितनी जरूरी लगने लगती है | बिना की जिम्मेदारी के जिन्द्की बेकार लगती है और धीरे-धीरे आपको एहसास होने लगता है कि शायद आप किसी काम के नहीं होते वही जवाब रिस्पांसिबिलिटीज का बोझ उठाते हो तो आप अपने होने का मतलब मिलने लगता है मर्द एक एनर्जी से भरे इंस्ट्रूमेंट की तरह अगर उसके एनर्जी को सही डायरेक्शन में नहीं लगाया गया तो बस self-destructive साबित हो सकता है खुद को बर्बाद कर सकता है

4 Women Know their responsibilities while men have to be reminded

4. इलाई अपनी ज्यादातर रिस्पांसिबिलिटी समझती है जबकि मर्दों को याद दिलाना पड़ती है

Jimmedaari Lene Se Kya Hota Hai
Jimmedaari Lene Se Kya Hota Hai

एक मर्द और एक औरत की परवरिश और बायोलॉजी में फर्क होता है प्रोफेसर जॉर्डन पीटरसन कहते हैं कि जहां एक तरफ औरत को शुरुआत से ही एहसास होता है उन्हें बच्चे पैदा करने है बच्चे पालना है परिवार का ख्याल रखना है वही दूसरी ओर मर्दो को इस बात का एहसास करवाना पड़ता है की उनकी क्या जिम्मेदारियां हैं

पुराने दिनों में यह और भी आसान था क्योंकि बहुत छोटी सी उम्र में ही लड़कों के कंधों पर परिवार की खेती या बिजनेस आगे बढ़ाने का बोझ डाल दिया जाता था शादी भी जल्दी हो जाती थी इसलिए आपने देखा होगा कि तब डिप्रेशन और नशे की लत में जवानो का नंबर भी काफी कम था वहीं आज कल पढ़ने लिखने के नाम पर मां-बाप लड़कों को हर जिम्मेदारी से आजाद रखते हे शायद यही वो वजह है जिसकी वजह से बच्चे किसी भी चीज को सीरियस नहीं लेते | जिंदगी भर बस जिम्मेदारियों से भागते रहते और एक बिना मकसद वाली लाइफ अंदर से खोखला बना देती और इस खालीपन और खोखले पन को भरने के लिए वह नशा जैसे बुरी लतों में उलझ जाते जाते हैं

5 Taking Great Responsibilities Means Strengthening Yourself

5 जो जितनी बड़ी रिस्पांसिबिलिटी उठाएगा उतना मजबूत और सेटिस्फाइड बनेगा

Jimmedaari Lene Se Kya Hota Hai 6 Scaled
Jimmedaari Lene Se Kya Hota Hai

वो कहते हैं ना कि चीनी जितनी ज्यादा हो चाहे उतनी मिठाई बनती वैसे ही रिस्पांसिबिलिटी जितनी बड़ी होती है कंधे उतनी ही मजबूत हो जाते हैं आपने अक्सर सुना होगा कि गरीब परिवार के व्यक्ति को जब अपॉर्चुनिटी मिलती है तो वो उसका ज्यादा अच्छे से फायदा उठा पाता है वही जिसने लाइफ में कभी बुरा वक्त देखा ही नहीं उसे कुछ सही मायने में जिंदगी को देखा हे नहीं है|  लाइफ में जितना ज्यादा स्ट्रगल होगा आपको अपनी रिस्पांसिबिलिटी समझने में उतनी आसानी होगी|

जैसे एक कंपनी का कर्मचारी हमेशा डिसेटिस्फाइड रहता है क्योंकि वह अपनी कंपनी को अपने रिस्पांसिबिलिटी नहीं समझ सकता उसे तो बस सैलरी से मतलब होता है वही कंपनी के मालिक के ऊपर पूरी कंपनी की जिम्मेदारी होती है इसलिए वह हमेशा स्ट्रांग और सेटिस्फाइड नजर आता है

इसे एग्जांपल के साथ समझते हैं अभी कोविड में न जाने कितने लोगों की जॉब चली गयी लेकिन जिसे इस बात का एहसास था कि उसके ऊपर फैमिली की रिस्पांसिबिलिटी है उसने कोई गलत कदम नहीं उठाया और अपने परिवार को चलाने का कोई ना कोई रास्ता ढूंढ ही लिया | वही जिसे एहसास ही नहीं रहा उसने डर के मारे सुसाइड जैसे कदम उठा लिए इससे आप समझ सकते हो कि जिम्मेदारी का अहसास इंसान को कितना मजबूत बना देता है|

तो पोस्ट अगर पसंद आया हो तो लाइक करना मत भूलना – धन्यवाद

Previous Post :-

दुखी होने का कारण क्या हैं ? 12 आदते : इसलिए आप दुःखी रहते हो

Avatar Of Letslearnsquad
LetsLearnSquadhttps://letslearnsquad.com
I am a youtuber & Blogger @ LetsLearnsquad.com
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular