HomeBIOGRAPHYHomi Bhabha Biography in Hindi होमी जहांगीर भाभा की जीवनी

Homi Bhabha Biography in Hindi होमी जहांगीर भाभा की जीवनी

Homi Bhabha Biography in Hindi

होमी जहांगीर भाभा की जीवनी

Homi-Bhabha-Biography-In-Hindi
Homi-Bhabha-Biography-In-Hindi

 

होमी जहांगीर

भाभा का पूरा नाम

होमी जहांगीर भाभा
होमी जहांगीर भाभा

का जन्मदिन

30 अक्टूबर, 1909
होमी जहांगीर भाभा

का जन्मस्थान

मुंबई में
होमी जहांगीर भाभा

का पद कार्य

भारत के परमाणु उर्जा

कार्यक्रम के जनक

होमी जहांगीर भाभा

द्वारा जीते नोबेल पुरुस्कार

5 बार
रॉयल सोसाइटी

का सदस्य

1941 में मात्र
31 वर्ष की आयु में
पद्मभूषण से अलंकृत वर्ष 1954 में

 

होमी जहांगीर भाभा

का जन्म

30 अक्टूबर 1909
मुंबई, भारत
होमी जहांगीर भाभा

की मृत्यु

24 जनवरी 1966
मोंट ब्लांक, फ्रांस
होमी जहांगीर भाभा

का आवास

भारत
होमी जहांगीर भाभा

की राष्ट्रीयता

भारतीय
होमी जहांगीर भाभा

की जातियता

पारसी
होमी जहांगीर भाभा

का क्षेत्र

परमाणु वैज्ञानिक
होमी जहांगीर भाभा

की संस्थान

Cavendish Laboratories
भारतीय विज्ञान संस्थानटाटा मूलभूत अनुसंधान संस्थान
परमाणु ऊर्जा आयोग (भारत)
होमी जहांगीर भाभा

की शिक्षा

कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय से
होमी जहांगीर भाभा

की डॉक्टरी सलाहकार

पॉल डिराक
रॉल्फ एच फाउलर
होमी जहांगीर भाभा

की डॉक्टरी शिष्य

बी भी श्रीकांतन
होमी जहांगीर भाभा

की प्रसिद्धि

भाभा स्कैटेरिंग

Homi-Bhabha-Biography-In-Hindi
Homi-Bhabha-Biography-In-Hindi

होमी जहांगीर भाभा जी को विज्ञान के क्षेत्र में कई अवार्ड सम्मान पाए है जिनमे से कुछ इस प्रकार है –

  • होमी भाभा भारतीय और विदेशी विश्वविद्यालयों से कई मानद डिग्रियां प्राप्त हुईं
  • 1941 में मात्र 31 वर्ष की आयु में डॉ भाभा को रॉयल सोसाइटी का सदस्य चुना गया
  • उनको पाँच बार भौतिकी के नोबेल पुरस्कार के लिए नामांकित किया गया
  • वर्ष में 1943 में एडम्स पुरस्कार मिला
  • वर्ष 1948 में हॉपकिन्स पुरस्कार से सम्मानित
  • वर्ष 1959 में कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय ने डॉ. ऑफ सांइस प्रदान की
  • वर्ष 1954 में भारत सरकार ने डॉ. भाभा को पद्मभूषण से अलंकृत किया
  • इनको पांच बार नोबेल पुरस्कार के लिए नामांकित किया गया।

Homi Bhabha Biography in Hindi

होमी जहांगीर भाभा की जीवनी

Homi-Bhabha-Biography-In-Hindi
Homi-Bhabha-Biography-In-Hindi

“मेरी सफलता इस बात पर निर्भर नहीं करती

कि कोई व्यक्ति मेरे बारे में क्या सोचता है

मैं अपने काम से क्या कर सकता हूं

उस पर मेरी सफलता निर्भर करती है”

न्यूक्लियर पावर

Homi-Bhabha-Biography-In-Hindi
Homi-Bhabha-Biography-In-Hindi

आज भारत को दुनिया में एक न्यूक्लियर पावर के रूप में जाना जाता है भारत और दुनिया के 9 देशों में से एक है जिसके पास न्यूक्लियर पावर है | आज हम बात करने जा रहे हैं उस साइंटिस्ट के बारे में जिन्होंने अपने प्रयासों से भारत में न्यूक्लियर पावर के रिचार्ज की नींव रखी थी | होमी जहांगीर भाभा जिन्हें हम होमी जे भाभा के नाम से जानते हैं इनका नाम तो आपने सुना ही होगा आज हम बात करेंगे उनकी उपलब्धियों और भारत के परमाणु विकास में उनके योगदान की इनके बारे में पूरी जानकारी लेने के लिए इस पोस्ट को अंत तक पढ़िए|

संस्थानों की नींव

Homi-Bhabha-Biography-In-Hindi
Homi-Bhabha-Biography-In-Hindi

होमी जे भाभा को फादर ऑफ इंडियन न्यूक्लियर प्रोग्राम यानि भारतीय परमाणु कार्यक्रम का जनक भी कहा जाता है उन्होंने भारत में दो प्रसिद्ध शोध संस्थानों की नींव रखी है पहली है TIFR यानी टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ फंडामेंटल रिसर्च और दूसरी है AEET जिसका नाम बदलकर आभार एटॉमिक रिसर्च सेंटर रख दिया गया था तो चलिए इन के बारे में शुरू से जानते हैं | होमी जे भाभा का जन्म 30 अक्टूबर 1960 को मुंबई के पारसी परिवार में हुआ था उनका परिवार बहुत शिक्षित और धनी था | उनके पिता जहांगीर होर्मूसजी भाभा अंग्रेजों के जमाने के प्रसिद्ध लॉयर ( वकील ) थे |

दोराबजी टाटा

उनकी शुरुआती शिक्षा मुंबई के कैथ्रेडल एंड जॉन कॉनन स्कूल से हुई फिर वह एल्फिंस्टन कॉलेज में पढ़े और उसके बाद रॉयल इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस में एडमिशन लिए | पढ़ाई के अलावा उन्हें पेंटिंग और म्यूजिक का भी बहुत शौक था उनके पिता और उनके रिश्तेदार दोराबजी टाटा जो उस समय के बहुत बड़े उद्योगपति थे दोनों लोग मिलकर उनके ऊपर कैंब्रिज यूनिवर्सिटी से मैकेनिकल इंजीनियरिंग करने का दबाव बनाने लगे जिससे कि वह वापस आकर टाटा स्टील में काम कर सके|

टर्निंग प्वाइंट

Homi-Bhabha-Biography-In-Hindi
Homi-Bhabha-Biography-In-Hindi

कैंब्रिज में जाने को उनके जीवन का टर्निंग प्वाइंट भी कहा जा सकता है क्योंकि उस समय कैंब्रिज यूनिवर्सिटी कई नए आविष्कारों का केंद्र बन चुकी थी वहीं पर शोध कर रहे पॉल डीरेक से वह काफी प्रभावित हुए थे | आपकी जानकारी के लिए हम आपको बता दें कि पॉल डीरेक ने पहली बार एंटीमैटर के होने की संभावना जताई थी  उनके योगदान के लिए उन्हें नोबेल प्राइज मिला था |

न्यूटन स्टूडेंट शिप

Homi-Bhabha-Biography-In-Hindi
Homi-Bhabha-Biography-In-Hindi

उन्हीं के काम से प्रभावित होकर होमी जे भाभा को भी न्यूक्लियर रिसर्च में इंटरेस्ट आने लगा 1933 में एक महत्वपूर्ण रिसर्च पेपर पब्लिश करने के बाद उन्हें न्यूक्लियर फिजिक्स में डॉक्टरेट मिल गई | इस पेपर के कारण वह ISSAC न्यूटन स्टूडेंट शिप जीत गए इसके बाद कई सारे रिसर्च ने एक साइंटिस्ट के रूप में उनकी पहचान बना ली|

कॉस्मिक रे रिसर्च

Homi-Bhabha-Biography-In-Hindi
Homi-Bhabha-Biography-In-Hindi

कैंब्रिज में को रिचार्ज के साथ-साथ और उसमें भी बहुत रूचि लेते थे 1939 में वह छुट्टी पर भारत वापस आए उसी समय विश्व युद्ध भी शुरू हो गया और उन्होंने इंडिया में ही रहने का फैसला कर लिया उन्होंने इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस में काम करने का फैसला कर लिया जिसके हेड उस समय के प्रसिद्ध साइंटिस्ट सीवी रमन जी थे उन्हें दोराबजी टाटा ट्रस्ट से रिचार्ज के लिए फंडिंग मिली जिससे उन्होंने कॉस्मिक रे रिसर्च यूनिट बनाया|

न्यूक्लियर फिजिक्स

Homi-Bhabha-Biography-In-Hindi
Homi-Bhabha-Biography-In-Hindi

वहीं पर काम करते समय उन्हें इस बात का एहसास हो गया कि भारत में कोई एक ऐसा इंस्टिट्यूट नहीं है जहां न्यूक्लियर फिजिक्स के क्षेत्र में रिचार्ज की जा सके वह यह समझ गए थे कि भारत में भी कई ऐसे वैज्ञानिक हैं जो इस क्षेत्र में अलग-अलग काम कर रहे हैं लेकिन अलग-अलग काम करने की वजह से कोई बड़ा अविष्कार नहीं हो पा रहा है अगर कोई एक ऐसी जगह हो जहां सभी वैज्ञानिक एक साथ काम कर सके और वहां काम करने की सारी सुविधाएं मौजूद हो तो न्यूक्लियर फिजिक्स क्षेत्र में भारत बहुत आगे जा सकता है|

1200 एकड़ जमीन

Homi-Bhabha-Biography-In-Hindi
Homi-Bhabha-Biography-In-Hindi

यही बातें उन्होंने सर दोराबजी टाटा ट्रस्ट को लिखें और उनसे इंस्टिट्यूट बनाने के लिए आर्थिक मदद की पेशकश की उनका यह प्रपोजल स्वीकार कर लिया गया है उन्होंने 1945 में मुंबई में TIFR – टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ फंडामेंटल रिसर्च की नीव रखी | बाद में जब उन्हें लगा कि टीआईएफआर में पूरी तरह से एटॉमिक रिसर्च नहीं हो पाएगी तो उन्होंने गवर्नमेंट से एक नहीं लैब लॉटरी बनाने की रिक्वेस्ट की जिसे स्वीकार कर लिया गया और उसके लिए 1200 एकड़ जमीन अलाट कर दी गई |

भाभा स्कैटरिंग

Homi-Bhabha-Biography-In-Hindi
Homi-Bhabha-Biography-In-Hindi

1954 में AEET यानी एटॉमिक एनर्जी डेवलपमेंट ट्रॉम्बे में काम शुरू हो गया उनका दुनिया भर के बड़े वैज्ञानिकों से परिचय था जिन्हें वह इंडिया में बुलाते थे और इंडियन साइंटिस्ट से मिल जाते थे जिससे कि उन्हें कुछ सीखने को मिले और प्रोत्साहन मिले उन्होंने परमाणु हथियारों पर सर्च करना शुरू कर दिया भारत की आजादी के बाद 1948 में नेहरू जी ने उन्हें भारत के परमाणु कार्यक्रम का डायरेक्टर बना दिया और देश के लिए परमाणु हथियार विकसित करने की जिम्मेदारी उन्हें ऑफिशियल सौप दी | उनके द्वारा किया गया एक महत्वपूर्ण शोध भाभा स्कैटरिंग आज पूरी दुनिया में निकले थे जिसमें पढ़ाया जाता है |

AEET

Homi-Bhabha-Biography-In-Hindi
Homi-Bhabha-Biography-In-Hindi

1954 में उन्हें भारत सरकार द्वारा पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था उन्होंने उस समय की एक और प्रसिद्ध साइंटिस्ट विक्रम साराभाई को स्पेस रिसर्च के लिए एक राष्ट्रीय कमेटी बनाने में बहुत सहयोग दिया था 24 जनवरी 1966 को एक प्लेन क्रैश में उनकी मृत्यु हो गई हालांकि उनकी मृत्यु को एक विदेशी एजेंसी की साजिश भी कहा जाता है जिससे कि भारत में बढ़ते परमाणु शोध को रोका जा सके उनकी मृत्यु के बाद AEET का नाम बदलकर भाभा एटॉमिक रिसर्च सेंटर रख दिया गया | परमाणु विज्ञान के क्षेत्र में उनके योगदान के लिए उन्हें हमेशा याद किया जाता रहेगा|

आपको यह पोस्ट कैसी लगी कमेंट करके हमें बताएं|  धन्यवाद  ( OSP )

NEXT

Viswanathan Anand Biography in Hindi विश्वनाथन आनंद जीवनी

Avatar Of Letslearnsquad
LetsLearnSquadhttps://letslearnsquad.com
I am a youtuber & Blogger @ LetsLearnsquad.com
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular