HomeStudent Careerआईएएस ऑफिसर कैसे बने? - पूरी जानकारी

आईएएस ऑफिसर कैसे बने? – पूरी जानकारी

आईएएस ऑफिसर कैसे बने?

Contents hide
1 आईएएस ऑफिसर कैसे बने?

 

  • आईएएस ऑफिसर क्या होता है?

  • आईएएस ऑफिसर कैसे बने?

  • आईएएस ऑफिसर बनने के लिए क्या-क्या शैक्षिक योग्यता होती है?

  • हमारे पास क्या-क्या एजुकेशनल क्वालिफिकेशन होनी चाहिए?

  • और इस का सिलेबस और एग्जाम पैटर्न क्या होता है?

इन सब के बारे में पूरी जानकारी आपको इस पोस्ट के अंदर मिलने वाली है तो यदि आप भी एक आईएएस ऑफिसर बनना चाहते हैं तो पोस्ट को शुरू से अंत तक जरूर पढ़ना

आईएएस की फुल फॉर्म होती है इंडियन एडमिनिस्ट्रेटिव सर्विस| इसे हिंदी में कहते हैं भारतीय प्रशासनिक सेवा एक आईएएस ऑफिसर बनने के लिए सिविल सर्विसेस का एग्जाम क्लियर करना बेहद जरूरी है और सिविल सर्विस एग्जाम यूपीएससी के द्वारा कंडक्ट कराया जाता है और यह जो आईएएस ऑफिसर का एग्जाम होता है यह नेशनल लेवल पर होता है और एक आईएएस ऑफिसर बनने के लिए हमें सीएसई एग्जाम देना जरूरी है और अगर आप नहीं जानते कि यूपीएससी क्या है तो हमने एक पोस्ट बनाई हुई है जिसमें हमने यूपीएससी के बारे में पूरी जानकारी दी है उसे जरूर पढ़ना|

यूपीएससी हर साल सिविल सर्विसेज एग्जाम कंडक्ट कराती है सिविल सर्विसेज एग्जाम सिर्फ आईएएस बनने के लिए ही नहीं बल्कि और भी कई सारी सर्विस उसके लिए यह कंडक्ट कराया जाता है जैसे कि आईएएस आईपीएस आईएफएस आदि अगर आप एक आईएएस ऑफिसर बनना चाहते हैं या फिर आईपीएस या फिर आईएफएस पोस्ट पर जॉब करना चाहते हैं तो इन सब के लिए सबसे पहले आपको सिविल सर्विस एग्जाम क्लियर करना बेहद जरूरी है सिविल सर्विस एग्जाम क्लियर करने के बाद ही आप इनमे से किसी पद पर जॉब करने के योग्य हो जाते हैं

सीएसई के अंदर लगभग 24 सर्विसिस आते हैं तो एक आईएएस ऑफिसर की जो नौकरी होती है वह इंडिया में टॉप लेवल की नौकरी मानी जाती है जिस तरीके से इंडिया में आईएएस ऑफिसर की नौकरी टॉप लेवल की है उसी तरह से इंडिया में आईएएस ऑफिसर के लिए जो एग्जाम होता है उसे भी भारत का सबसे कठिन प्रतियोगी परीक्षा माना जाता है इसीलिए अगर आपको एक आईएएस ऑफिसर बनना है तो आपका पूरा फोकस आपके एम पर होना चाहिए | आपको डेली न्यूजपेपर मैगजीन और करंट अफेयर्स पढ़ने चाहिए तो आगे हम जान लेते हैं पात्रता मापदंड यानी कि एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया के बारे में|

Q: तो अगर आप यूपीएससी के सिविल सर्विसेज एग्जाम को देना चाहते हैं तो इसके लिए आपके पास क्या क्या योग्यताएं होनी चाहिए?

  • आपको इंडियन सिटीजन होना बेहद जरूरी है एक भारतीय नागरिक होना जरूरी है
  • भारतीय नागरिक के अलावा नेपाल और भूटान के नागरिक भी इस परीक्षा के लिए आवेदन कर सकते हैं
  • इसके अलावा जो तिब्बती शरणार्थी हैं जो 1 जनवरी 1962 से पहले इंडिया में आ चुके हैं और इंडिया में परमानेंटली सेटल हो चुके हैं तो ऐसे स्टूडेंट भी इस एग्जाम के लिए आवेदन कर सकते हैं

आईएएस ऑफिसर कैसे बने
आईएएस ऑफिसर कैसे बने

Q: सिविल सर्विस एग्जाम देने के लिए हमारे पास क्या-क्या शैक्षिक योग्यताएं होनी चाहिए?

शैक्षिक योग्यता में आपके पास बैचलर डिग्री होना बेहद जरूरी है किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से आप बैचलर डिग्री किसी भी स्ट्रीम में कंप्लीट कर सकते हैं जैसे कि आपने आर्ट स्ट्रीम में बैचलर डिग्री की हो या फिर कॉमर्स स्ट्रीम का | तो आप किसी भी स्ट्रीम का बैचलर डिग्री कर सकते हैं बीए बीएससी बीकॉम बीटेक इस तरीके का कोई भी आपका बैचलर डिग्री होना जरूरी है और वैसे डिग्री में मार्क्स मैटर नहीं करता इस एग्जाम के लिए आपको सिर्फ बैचलर डिग्री पास होना जरूरी है आपके मार्क्स 50% या 60% हो या 45% हो | बस आपको सिर्फ पास होना जरूरी है आपके ग्रेजुएशन में | अगर आप अपने ग्रेजुएशन में पास है तो आप इस एग्जाम के लिए अप्लाई कर सकते हैं| इसके अलावा जो स्टूडेंट ग्रेजुएशन के फाइनल ईयर में है उन्होंने अभी तक एग्जाम नहीं दिया है तो ऐसे स्टूडेंट भी इस एग्जाम के लिए अप्लाई कर सकते हैं और जो स्टूडेंट फाइनल ईयर का एग्जाम दे चुके हैं बट अभी तक उनका रिजल्ट नहीं आया है वह अभी तक रिजल्ट का इंतजार कर रहे हैं तो ऐसे स्टूडेंट भी इस एग्जाम के लिए आवेदन कर सकते हैं बस आपको यह जरूरी है कि आपको प्रीलिम्स में तो बैठने दिया जाएगा लेकिन प्रीलिम्स के बाद जब दो-तीन महीने बाद मैन्स का एग्जाम होता है तो मेंस एग्जाम होने से पहले पहले आपको अपना रिजल्ट शो करना पड़ेगा यानी के अगर आप का रिजल्ट आ जाता है मैन्स से पहले पहले और आप यह प्रूफ कर देते हैं कि आप बैचलर डिग्री पास हो चुके हैं तभी आपको मेंस एग्जाम में बैठने दिया जाता है|

तो इसीलिए आप प्रीलिम्स तक तो जा सकते हैं बट आपको मैन्स के लिए जरूरी है कि आप का रिजल्ट आपके पास हो |

Q: उम्र सीमा के बारे में एज लिमिट क्या है?

इस एग्जाम के लिए मिनिमम एज लिमिट 21 ईयर्स और मैक्सिमम 32 ईयर्स ये एज लिमिट खासकर जनरल कैटेगरी के लिए है इसके बाद

  • जो एससी एसटी कैटेगरी के स्टूडेंट है उनको 5 साल की छूट मिलती है
  • ओबीसी स्टूडेंट को 3 साल की छूट मिलती है
  • एक्स सर्विसमैन को 5 साल की छूट मिलती है

इसके बाद दिया गया है

आईएएस ऑफिसर कैसे बने?
आईएएस ऑफिसर कैसे बने?

  • रक्षा सेना के जवान इन्हें 3 साल की छूट मिलती है
  • जो फिजिकली हैंडिकैप्ड कैंडिडेट जनरल केटेगरी से बिलॉन्ग करते हैं उन्हें 10 साल की छूट मिलती है
  • और जो फिजिकली हैंडिकैप्ड कैंडिडेट ओबीसी कैटेगरी से बिलॉन्ग करते हैं उन्हें 13 साल की छूट मिलती है
  • और अगर कोई ऐसी एसटी कैटेगरी का स्टूडेंट फिजिकली हैंडिकैप्ड हो तो उसे 15 साल की छूट मिलती है तो यह है आपकी एज लिमिटेशन

Q: एक आईएएस ऑफिसर बनने के लिए हमें कौन सी परीक्षा देनी होती है?

तो आपको यूपीएससी सिविल सर्विसेज एग्जामिनेशन देना होता है एक आईएएस ऑफिसर बनने के लिए | ये एग्जाम आपका 3 स्टेप में होता है

  • पहला स्टेप है प्रिलिमनरी एक्जाम
  • दूसरे स्टाफ है मेंस एग्जाम
  • और तीसरा होता है आपका इंटरव्यू

अगर आप पहला स्टेप क्लियर कर लेते हैं इसके बाद आपको सेकंड स्टेप में आना होता है सेकंड स्टेप क्लियर करने के बाद फाइनल राउंड में आपका इंटरव्यू होता है जब आप इंटरव्यू क्लियर कर लेते हैं उसके बाद आप आईएएस ऑफिसर जाते हैं |

तो आइए हम प्रीलिम्स एग्जाम के बारे में थोड़ा डिटेल में जान लेते हैं

प्रीलिम्स एग्जाम में 2 पेपर होते हैं एक पेपर आपका होता है| करंट अफेयर्स का और दूसरा होता है एप्टिट्यूड टेस्ट का जिसे सीसैट भी कहते हैं सीसैट का पूरा नाम है सिविल सर्विसेज एप्टीट्यूड टेस्ट, पेपर फर्स्ट एंड पेपर सेकंड दोनों ही पेपर आपके दो-दो घंटे के होते हैं दोनों पेपर को करने के लिए|

पेपर फर्स्ट का टोटल मार्क्स 200 और पेपर सेकंड का भी टोटल मार्क्स 200 है और दोनों पेपर में आपके ऑब्जेक्टिव टाइप के क्वेश्चन आते हैं टिकट वाले ऑप्शन दिए होते हैं और आपको एक ही ऑप्शन में चुनना होता है| जो प्रारंभिक परीक्षा होती है यह सिर्फ और सिर्फ स्क्रीनिंग पर्पस के लिए होता है| मैन्स एग्जाम देने के लिए पहले प्रीलिम्स करना बहुत ही जरूरी है अगर आप प्रीलिम्स क्लियर नहीं कर पाते हैं तो आपको मेंस एग्जाम में नहीं बैठने दिया जाता है तो इसीलिए जरूरी है कि आप ले प्रारंभिक परीक्षा पास करें उसके बाद ही आप मुख्य परीक्षा तक पहुंच पाते हैं और फाइनल मेरिट में प्रारंभिक परीक्षा के जो मार्क्स होते हैं वह ऐड नहीं किए जाते हैं क्योंकि यह सिर्फ और सिर्फ स्क्रीनिंग पर्पस के लिए होता है ओवरऑल मेरिट में एग्जाम और इंटरव्यू में जो मार्क्स स्कोर करते हैं उसी के बेस पर बनाया जाता है तो अब हम जान लेते हैं

Q: पेपर फर्स्ट एंड पेपर सेकंड का सिलेबस क्या क्या है?

यहां पर हम पेपर फर्स्ट का सिलेबस जानेंगे उसके बाद जानेंगे पेपर सेकंड का सिलेबस | जी एस  पेपर फर्स्ट में आपके यह सारे टॉपिक्स होते हैं इन से रिलेटेड क्वेश्चंस आ जाते हैं जैसे कि

  • करंट इवेंट
  • जनरल साइंस
  • हिस्ट्री
  • ज्योग्राफी
  • इकोनामिक
  • पॉलीटिकल
  • एनवायरमेंट एंड इकोलॉजी

जी एस पेपर सेकंड का जो सिलेबस है यहां पर दिया गया है

आईएएस ऑफिसर कैसे बने?
आईएएस ऑफिसर कैसे बने?

  • जनरल मेंटल एबिलिटी
  • इंग्लिश लैंग्वेज कंप्रीहेंशन स्किल्स
  • डिसीजन मेकिंग एंड प्रॉब्लम्स सॉल्विंग स्किल्स
  • बेसिक न्यूमैरेसी एंड डाटा इंटरप्रिटेशन
  • इंटरप्रिटेशन स्किल्स इंक्लूडिंग कम्युनिकेशन स्किल्स
  • रीडिंग कंप्रीहेंशन
  • लॉजिकल रीजनिंग एंड एनालिटिकल एबिलिटी

और जीएस पेपर फर्स्ट और पेपर सेकंड यह दोनों पेपर आपके एक ही दिन होते हैं एक पेपर आपका मॉर्निंग में होता है और एक पेपर आपका इवनिंग में होता है तो प्रीलिम्स एग्जाम हो जाने के दो-तीन महीने बाद आपको मेंस एग्जाम देना होता है

तो आइए अब हम जान लेते हैं मेंस एग्जाम के बारे में

मेंस एग्जाम में आपके पूरे 9 पेपर होते हैं चार पेपर आपके जनरल स्टडीज के होते हैं जनरल स्टडीज फर्स्ट, सेकंड, थर्ड, एंड फोर्थ, यह चारों ही आपके ढाई ढाई सौ मार्क्स के होते हैं | इसके बाद आपका अगला पेपर होता है निबंध का पेपर इसमें आपको निबंध लिखना होता है यह भी 250 मार्क्स का होता है इसके बाद एक पेपर है इंडियन लैंग्वेज पेपर जो कि 300 मार्क्स का है इसके बाद इंग्लिश का पेपर यह भी 300 मार्क्स का है और इसके बाद दो ऑप्शनल पेपर आपके होते हैं ऑप्शनल पेपर आपकी वही सब्जेक्ट के होते हैं जो सब्जेक्ट आपने ऑप्शन में चुनाव होता है और यह दोनों ही आपके 250 मार्क्स के होते हैं और मैन्स एग्जाम आपका रिटेन में होता है जैसा कि मैंने आपको प्रीलिम्स में बताया था कि उसमें जो क्वेश्चन आते हैं टिक वाले आते हैं लेकिन मेंस एग्जाम में ऐसा नहीं होता इसमें आपको रिटेन एग्जाम करना होता है और मैन्स के एग्जाम फोरनून में होते हैं और कुछ पेपर आफ्टरनून में होते हैं यह डिपेंड करता है आपके डेट शीट पर | फोरनून का मतलब होता है सुबह के बाद और दोपहर से पहले|

आईएएस ऑफिसर कैसे बने?
आईएएस ऑफिसर कैसे बने?

आगे हम जान लेते हैं ऑप्शनल पेपर फर्स्ट एंड ऑप्शनल पेपर सेकंड के बारे में

ऑप्शनल पेपर फर्स्ट में टोटल 25 ऑप्शनल सब्जेक्ट के ऑप्शन आपके पास होते हैं इन 25 सब्जेक्ट में से आपको कोई एक सब्जेक्ट चुनना होता है जिसमें आपको इंटरेस्ट हो जिसमें आपको अच्छी जानकारी हो वह सब जाट आप चुन सकते हैं तो यहां पर 25 ऑप्शनल सब्जेक्ट की लिस्ट की गई है इनमें से कोई एक सब्जेक्ट आप को चुनना होता है और उसी का एग्जाम आपका बाद में होता है|

यह तो हो गया ऑप्शनल पेपर 1st अब हम जान लेते हैं ऑप्शनल पेपर 2nd के बारे में ऑप्शनल पेपर जो सेकंड होता है इसमें हमें कोई एक लैंग्वेज सब्जेक्ट चुनना होता है और यहां पर हमारे पास लैंग्वेज सब्जेक्ट के ऑप्शन होते हैं तो जो भी लैंग्वेज आपको इजी लगता है जिस लैंग्वेज में आपका इंटरेस्ट हो जिसके बारे में आपको अच्छी जानकारी हो आप उसे चुन सकती हैं और जब आप मेंस एग्जाम भी क्लियर कर लेते हैं तो इसके बाद आपको आईएएस ऑफिसर बनने के लिए इंटरव्यू देना होता है 45 मिनट का आपका इंटरव्यू होता है और टोटल मार्क्स इसमें 275 होते हैं तो इंटरव्यू के अकॉर्डिंग आपको इसमें मार्क्स दे दिए जाते हैं|

आईएएस ऑफिसर कैसे बने
आईएएस ऑफिसर कैसे बने

हमने पोस्ट के स्टार्टिंग में यह जान लिया था कि यूपीएससी सिविल सर्विसेज एक्जाम टोटल 24 सर्विसेज के लिए एग्जाम कंडक्ट कराती है तो उन 24 सर्विस इसमें से आईएएस ऑफिसर का जो पद होता है वह सबसे ऊंचा प्रशासनिक पद है तो जो भी कैंडिडेट सिविल सर्विस एग्जामिनेशन में टॉप रैंक हासिल करते हैं उन्हें आईएस के पद पर नियुक्त किया जाता है उन्हें एक आईएएस ऑफिसर बना दिया जाता है और 5 – 7 साल बाद आपको प्रमोशन मिलता है और उसके बाद आपको डीएम बना दिया जाता है डीएम से प्रमोशन मिलने के बाद आप स्टेट गवर्नमेंट के सेक्रेटरी भी बन जाते हैं तो इस तरीके से आईएएस ऑफिसर को प्रमोशन भी मिलता है|

Q: यूपीएससी सिविल सर्विसेज एग्जाम के लिए कितने अत्तेम्प्ट्स मिलते हैं?

आईएएस ऑफिसर कैसे बने?
आईएएस ऑफिसर कैसे बने?

  • अगर आप एक जनरल कैटेगरी के स्टूडेंट है तो आप 32 साल की एज तक छह बार अटेंड कर सकते हैं सीएसई एक्जाम को
  • और अगर आप ओबीसी कैटेगरी से बिलॉन्ग करते हैं तो आप 35 साल की एज तक 9 बार इस एग्जाम को अत्तेम्प्ट्स कर सकते हैं
  • और जो एससी एसटी कैंडीडेट्स है वह अनलिमिटेड टाइम एग्जाम अटेंड कर सकते हैं इनके लिए कोई भी लिमिट नहीं दी गई है
  • और जो जनरल कैटिगरी के स्टूडेंट्स होते हैं और हैंडीकैप्ड होते हैं तो उनके लिए भी नो 9 बार इस एग्जाम को अत्तेम्प्ट्स कर सकते हैं
  • और अगर आप फिजिकली हैंडिकैप्ड है और जनरल कैटेगरी के हैं तो आप 9 बार इस एग्जाम को दे सकते हैं जहां तक आपकी एज लिमिट में दी गई है| एज लिमिट मैंने आपको वीडियो पोस्ट के शुरुआत में बता दी है |
  • इसके बाद ओबीसी कैटेगरी के फिजिकली हैंडिकैप्ड 9 बार अत्तेम्प्ट्स कर सकते हैं और एससी एसटी स्टूडेंट के लिए चाहे वह फिजिकली हैंडिकैप्ड हो या फिर ना हो अनलिमिटेड टाइम एग्जाम अटेंड कर सकते हैं

इस एग्जाम को तो यहां तक हमने जाना एक आईएएस ऑफिसर बनने के लिए हमें कौन सा एग्जाम देना होता है कितने टाइम समय मिलते हैं? इसके लिए क्या एज लिमिट है? एजुकेशनल क्वालिफिकेशन क्या है? पेपर और साथ में उसका सिलेबस क्या है? इन सब के बारे में हमने जाना और यदि आप जानना चाहते हैं एक आईएएस ऑफिसर और टीसीएस ऑफिसर के पोस्ट में क्या अंतर होता है एग्जाम में क्या डिफरेंस होता है सैलरी और प्रमोशन और पावर इन सब में क्या डिफरेंस होता है तो आप हमारी अगली पोस्ट जरूर देखना जिसमें हम बताएँगे | आईएएस ऑफिसर और एक पीसीएस में क्या अंतर होता है ?

Previous Post:-

सब इंस्पेक्टर कैसे बनते हैं? ( दरोगा )

Avatar Of Letslearnsquad
LetsLearnSquadhttps://letslearnsquad.com
I am a youtuber & Blogger @ LetsLearnsquad.com
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular